Best 150+ झूठे मतलबी रिश्ते शायरी – स्वार्थी लोग मतलबी रिश्ते शायरी

आज इस पोस्ट में हम आपके लिए स्वार्थी लोग मतलबी रिश्ते शायरी, झूठे मतलबी रिश्ते शायरी, रिश्तेदार मतलबी रिश्ते शायरी लेकर आये है। यह शायरी उन लोगो पर लिखी गयी है जो अपने मतलब एवं स्वार्थ के लिए हम से रिश्ते निभाते है।

स्वार्थी लोग मतलबी रिश्ते शायरी

मौसम तो समय आने पर बदलता है
स्वार्थी लोगों का क्या किसी भी समय बदल जाते है।

Mausam to samay aane par badalta hai,
Swarthi logon ka kya kisi bhi samay badal jaate hai.

स्वार्थी-लोग-मतलबी-रिश्ते-शायरी (1)

किन किन को मतलबी कहोगे,
सारी दुनिया तो मतलबी लोगों से भरी पड़ी है।

Kin kin ko matalabi kahoge,
Sari duniya to matalabi logon se bhari padi hai.

धुप को तो लोग ऐसे ही बदनाम करते है,
आपस में ही एक दूसरे से जलते रहते है।

Dhup ko to log aise hi badanam karte hai,
Aapas me hi ak dusare se jalate rahte hai.

न जाने हम ऐसा क्या कर गए,
इतना कुछ करने के बाद भी
लोगों के लिए बेकार हो गए।

Na jane ham aisa kya kar gae,
Itna kuchh karne ke bad bhi
Logo ke liye bekar ho gae.

अगर इंसान का दिल ही साफ नही है,
तो बाहर की खूबसूरती का क्या मतलब।

Agar insan ka dil hee saph nahi hai,
To bahar ki khubasurati ka kya matalab.

अगर खुद का स्वार्थ होता है,
तो इंसान की जुबां पर मिठास आ जाता है।

Agar khud ka swarth hota hai,
To insan kee juban par mithas aa jata hai.

खुद की बात आती है तो कुछ भी करते है लोग,
जैसे स्वार्थ को तो हर वक्त साथ लेकर चलते है लोग।

Khud ki bat aati hai to kuchh bhi karte hai log,
Jaise swarth ko to har vakt sath lekar chalate hai log.

जंगल में बहुत ही चीते है,
इंसान स्वार्थ के बल पर ही जीते है।

Jungal me bahut hi chite hai,
Insan swarth ke bal par hi jite hai.

खुद का दोस्त स्वार्थी बन जाता है,
तो मन बहुत उदास हो जाता है।

Khud ka dost swarthi ban jata hai,
To man bahut udas ho jata hai.

लोग बड़ा बनने के लिए दिखाते है झांकी,
आज भी लोगों के मन में स्वार्थ है बाकी।

Log bada banane ke lie dikhate hai jhanki,
Aaj bhi logon ke man me swarth hai baki.

यहाँ पर जो स्वार्थी लोग मतलबी रिश्ते शायरी शेयर की गयी है, वो दो लाइन में लिखी गयी है, यहाँ लिखी गयी रिश्तेदार मतलबी रिश्ते शायरी आप अपने व्हाट्सप्प या फेसबुक स्टेटस के लिए भी इस्तेमाल कर सकते है।

झूठे मतलबी रिश्ते शायरी

बहुत ही तेजी से लोगों की जिंदगी बदल रही है,
क्योकि स्वार्थी लोगों पर ये दुनिया चल रही है।

Bahut hi teji se logon kee jindagi badal rahi hai,
Kyonki swarthi logon par ye duniya chal rahi hai.

स्वार्थी-लोग-मतलबी-रिश्ते-शायरी (2)

दोस्त भी एक दिन दुश्मन बन जाता है,
जब मन में स्वार्थ आ जाता है।

Dost bhi ak din dushman ban jata hai,
Jab man me swarth aa jata hai.

इंसान का स्वार्थ जब पूरा हो जाता है,
स्वार्थ में अपनों से ही दूर हो जाता है।

Insan ka swarth jab pura ho jata hai,
Swarth me apanon se hi dur ho jata hai.

लोगों में कही अच्छाई है तो कही भी बुराई है,
स्वार्थ के चक्कर में रिश्तों में दरार आई है।

Logon me kahi achchhai hai to kahi bhi burai hai,
Swarth ke chakkar me rishton me darar aai hai.

स्वार्थी इंसान अपने गलतियों को स्वीकार नही कर पाता है,
इसलिए रिश्तों की अहमियत समझ नही पाता है।

Swarthi insan apane galatiyon ko svikar nahi kar pata hai,
Isliye rishton ki ahamiyat samajh nahi pata hai.

इंसान उतनी ही बात करता है जिसकी जरूरत होती है,
स्वार्थ से ही दुनिया आगे बढ़ती है।

Insan utani hi bat karta hai jiski jarurat hoti hai,
Swarth se hi duniya age badhati hai.

इंसान सब कुछ करता है अपनों के लिए,
मतलब चक्कर दुर हो गए मतलबी अपनों के लिए।

Insan sab kuchh karta hai apanon ke lie,
Matalab chakkar dur ho gae matalabi apanon ke lie.

वक्त के साथ लोगों का बदल जाता है मिजाज,
मतलब के लिए सब कुछ करते है लोग आज।

Vakt ke sath logon ka badal jata hai mijaj,
Matalab ke lie sab kuchh karte hai log aaj.

आज के समय में लोगों के बीच प्यार ज्यादा है,
मतलब के चक्कर में हो गया आधा है।

Aaj ke samay me logon ke bich pyar jyada hai,
Matalab ke chakkar me ho gaya aadha hai.

लोगो की जरूरत पुरी हो जाती है,
तब बात करने की आदत बदल जाती है।

Logo ki jarurat puri ho jati hai,
Tab bat karne ki adat badal jati hai.

यह झूठे मतलबी रिश्ते शायरी ऐसे लोगो पर लिखी गयी है, जो हमारे साथ अपने स्वार्थ के लिए रिश्ता रखते है और जब निभाते की बारी आती है तो धोखा दे जाते है।

रिश्तेदार मतलबी रिश्ते शायरी

अपनों के ही बीच दरार आ गयी है,
जब से स्वार्थ ने रिश्तों के बीच अपनी जगह बनाई है।

Apno ke hi bich darar aa gayi hai,
Jab se swarth ne apno ke bich apni jagah banai hai.

स्वार्थी-लोग-मतलबी-रिश्ते-शायरी (3)

जो पहले हमसे मिठी बात करते थे,
आज मतलब के चक्कर में कड़वे बोल बोलते है।

Jo pahale hamase mithi bat karte the,
Aaj matalab ke chakkar me kadave bol bolate hai.

जीवन में चाहे कुछ भी करना पड़े,
मतलबी लोगों से दोस्ती करना छोड़े।

Jivan me chahe kuchh bhi karna pade,
Matalabi logon se dosti karna chhode.

दुनिया के लोगों ने ठुकरा दिया,
मतलब में रिश्ते नातों को जुदा कर दिया।

Duniya ke logon ne thukara diya,
Matalab me rishte naton ko juda kar diya.

मुसीबत आने पर ही व्यक्तित्व के बारें में पता चलता है,
कौन कितना अपना है कौन कितना मतलबी है।

Musibat aane par hi vyaktitv ke baren me pata chalata hai,
Kaun kitana apana hai kaun kitana matalabi hai.

आप में चाहे कितनी भी है अच्छाई,
मतलबी इंसानों को आप में सिर्फ दिखती है बुराई।

Aap me chahe kitani bhi hai achchhai,
Matalabi insanon ko aap me sirph dikhati hai burai.

मन में स्वार्थ आते ही इंसान सब कुछ भुलता जाता है,
अपनों को ही अपने आप से पराया करता जाता है।

Man me swarth aate hi insan sab kuchh bhulata jata hai,
Apanon ko hi apane aap se paraya karta jata hai.

जीवन में चाहे कितनी भी आ जाए कठिनाई,
मतलबी लोगों से बचने में है आपकी भलाई।

Jivan me chahe kitani bhi aa jae kathinai,
Matalabi logon se bachane me hai aapki bhalai.

सच बोलने वाले दुनिया की नजर मे मतलबी होते है,
और झूठ बोलने वाले दुनिया को सबसे अधिक प्रिय होते है।

Sach bolane vale duniya ki najar me matalabi hote hai,
Aur jhuth bolane vale duniya ko sabse adhik priy hote hai.

मुश्किले उन्ही का पीछा करते है जो ईमानदार से खाते है,
लोग मतलब निकालने के लिए कुछ भी कर जाते है।

Mushkile unhi ka pichha karte hai jo imanadar se khate hai,
Log matalab nikalane ke lie kuchh bhi kar jate hai.

हमें आशा है आपको यह स्वार्थी लोग मतलबी रिश्ते शायरी और झूठे मतलबी रिश्ते शायरी अवश्य ही अच्छी लगी होगी। आप चाहे तो इस शायरी को अपने सोशल मीडिया जैसे व्हाट्सएप या फेसबुक पर स्टेटस डालने के लिए भी इस्तेमाल कर सकते है।

Read Also: खूबसूरती की तारीफ शायरी 2 लाइन

Leave a Comment