Top 51+ बुरा वक्त शायरी – Bura Waqt Shayari 2023

Bura Waqt Shayari In Hindi – Har kisi ke jeevan me achchha or bura waqt aata hai.Ye insan par depend karta hai ki use kaise handle karna hai.Agar aap bura waqt par shayari ki khoj me ho to is post me bura waqt shayari likhi gayi hai.

Bura Waqt Shayari

वक्त किसी का बुरा नही होता है,
वक्त के साथ इंसान बुरा बन जाता है।

Waqt kisi ka bura nahi hota hai,
Waqt ke sath insan bura ban jata hai.

बुरा-वक्त-शायरी (1)

जब किसी का सहारा नही होता है,
तब वक्त हमारा नही होता है।

Jab kisi ka sahara nahi hota hai,
Tab waqt hamara nahi hota hai

दोस्त चाहे कितने भी कमीने होते है,
बुरे वक्त में वही साथ होते है।

Dost chahe kitne bhi kameene hote hai,
Bure waqt me wahi sath hote hai.

बुरे वक्त ने हमें बहुत कुछ सिखा दिया,
हमें बहुत अच्छा इंसान बना दिया।

Bure waqt ne hume bahut kuchh sikha diya,
Hume bahut achchha insan bana diya.

बुरे वक्त में ही होती है हर किसी की पहचान,
अच्छे वक्त में हम सबसे रहते है अनजान।

Bure waqt me hi hoti hai har kisi ki pahchan,
Achchhe waqt me hum sabse rahte hai anzan.

हमारी दोस्ती का यही सिला दिया,
बुरे वक्त ने दोस्तों से मिला दिया।

Hamari dosti ka yahi sila diya,
Bure waqt ne doston se mila diya.

बुरे वक्त में इंसान टुट जाता है,
हर कोई अपना रूठ जाता है।

Bure waqt me insan tut jata hai,
Hai koi apna ruth jata hai.

जब पड़ती है बुरे वक्त की मार,
इंसान जाता है जिंदगी हार।

Jab padti hai bure waqt ki mar,
Insan jata hai zindagi har.

जिसे हमने अपना माना,
बुरे वक्त में उसे जाना।

Jise hamne apna mana,
Bure waqt me use jana.

बुरा वक्त जब भी किसी का आता है,
इंसान सुध बुध भूल जाता है।

Bura waqt jab bhi kisi ka aata hai,
Insan sudh budh bhul jata hai.

बुरे वक्त में हमने ठोकरें खाई,
बुरे वक्त ने ही अपनों की पहचान कराई।

Bure waqt me hamne thokare khai,
Bure waqt ne hi apno ki pahchan karai.

जब बुरा वक्त आता है,
इंसान खुद ब खुद संभल जाता है।

Jab bura waqt aata hai,
Insan khud b khud sambhal jata hai.

बुरे वक्त में खुद को संभालना इतना आसान नही होता है,
जो खुद को संभाल पाता है वह महान होता है।

Bure waqt me khud ko sambhalna itna aasan nahi hota hai,
Jo khud ko sambhal pata hai wah mahan hota hai.

इसे पढ़ें: मौत शायरी दो लाइन

Bura Waqt Shayari In Hindi

वक्त के हाथों हम मजबूर हो गए,
पता नही कब अपनों से दूर हो गए।

Waqt ke hathon hum majbur ho gaye,
Pata nahi kab apnon se dur ho gaye.

बुरा-वक्त-शायरी (2)

बुरे वक्त में कोई नही होता है सहारा,
हे भगवान बुरा वक्त जिंदगी में ना आये दोबारा।

Bure waqt me koi nahi hota hai sahara,
He bhagwan bura waqt zindagi me na aaye dobara.

बुरे वक्त से हम भले ही थे अनजान,
बुरे वक्त ने ही मेरे अपनों की कराई पहचान।

Bure waqt se hum bhale hi the anzan,
Bure waqt ne hi mere apno ki karai pahchan.

जब बुरे वक्त के साथ अपने साथ छोड़ देते है,
तो दोस्त कदम से कदम मिलाकर चलते है।

Jab bure waqt ke sath apne sath chhod dete hai,
To dost kadam se kadam milakar chalte hai.

कहने को तो हर कोई अपना होता है,
बुरा वक्त आने पर सब बदल जाता है।

Kahne ko to har koi apna hota hai,
Bura waqt aane par sab badal jata hai.

दिन आते दिन जाते है,
वक्त के साथ सब बदल जाते है।

Din aate hai din jate hai,
Waqt ke sath sab badal jate hai.

हर कोई हंसकर चला जाता है,
वक्त के साथ जख्म भर जाता है।

Har koi hanskar chala jata hai,
Waqt ke sath jakhm bhar jata hai.

बुरा वक्त जब भी आता है,
इंसान टुट जाता है।

Bura waqt jab bhi aata hai,
Insan tut jata hai.

बुरे वक्त के साथ-साथ इंसान सब कुछ भूल जाता है,
उसको किसी का ख्याल नही आता है।

Bure waqt ke sath sath insan sab kuchh bhul jata hai,
Usko kisi ka khyal nahi aata hai.

अच्छे वक्त का पता नही चलता है,
पता नही बुरा वक्त जल्दी आ जाता है।

Achchhe ka pata nahi chalta hai,
Pata nahi bura waqt jaldi aa jata hai.

जब भी बुरा वक्त बितेगा,
इंसान अपनी मंजिल तक पहुंचेगा।

Jab bhi bura waqt bitega,
Insan apni manzil tak pahunchega.

बुरा वक्त इंसान का असली चेहरा दिखाता है,
तभी तो पता चलता है कौन किसका होता है।

Bura waqt insan ka asali chehra dikhata hai,
Tabhi to pata chalta hai kaun kiska hota hai.

Final Words -Hume umeed hai ki is post me likhi gayi bura waqt shayari in hindi aapko pasand aayi hogi to aap apne friends ke sath share kar sakte ho.

इसे पढ़ें: समय खराब है शायरी स्टेटस

Leave a Comment